Posts

Bhojpatra Ka Vashikaran Upay

Image
(Pati Aur Stri Vashikaran Totke)

Yadi aapke pati ya premi aapko pyar nahi karta hai ya aapki premika ya patni aapko pyaar nahi karti hai ya phir unka kisi aur ke sath sambhandh (chakkar) ho gaya hai to aap ye upay kar sakte hai.

Pati ya patni mein se jo bhi chahe wo is kriya ko chup chaap kar sakta hai.
Aapko is ke liye ek shahad (honey) ki chotti bottle chahiye aur ek laal (red) pen aur ek bhojpatra ka tukda.
Pati ya Premi ko chahiye ki wo apni Patni ya Premika ka naam us bhojpatra pr laal pen se likh de aur phir 51 baar is mantar ko bolna hai" Bisimllahey Rahmani Rahim,Aalmoti Hovlalah "aur phir us bhojpatra pr fook maar deni hai aur us bhojpatra ke tukde ko us shahad ki bottle mein daal dena hai aur dhakkan band kar dena hai aur phir kisi gupt jagah pr us bottle ko rakh dena hai.
Ye upay koi bhi vykti kar sakta hai aur kisi ke liye bhi kar sakta hai. Jaise kisi vykti ne aapse paise liye hai lekin lauta nahi raha hai to aap ye upay kar sakte hai aapko us vykti ka naam likhna ho…

Vashikaran for Love

Image
पान हरियाले पान |
चिकनी सुपारी, श्वेत खैर |
दाहिने हरे कर चूना, मोही लेय पान |
हाथ मे दे हाथ रस ले |
श्री नृसिंह वीर थारी शक्ति |
मेरी भाक्ति |
फुरो मंत्र ईश्वर महादेव की वाचा |

विधि - उपरोक्त मंत्र के 7 दिनों तक लगातार 108 जाप प्रतिदिन करके मंत्र को सिद्ध कर लेना चाहिए | मंत्र सिद्ध हो जाने के पश्चात पान का पता लेकर उपरोक्त मंत्र का जाप 21 बार करते हुए पान को अभिमंतित कर लेना चाहिये और फिर उसे इच्छित स्त्री को खिला देना चाहिये | सात दिनों तक नियमित यह किर्या करते रहने पर, वह स्त्री न केवल वश मे हो जायेगी, बल्कि शारीरिक सम्बन्ध सदा सदा के लिये आपकी हो जायेगी |

Lal Kitab Ke Upay

Image
नजर उतारने के टोटके
1. नजर लगे व्यक्ति पर से सफेद फिटकरी उतारे उसे बाये हाथ से कुटे उसका चूर्ण कही फेक दें|
2. भोजनकोनजरलगजायेतोभोजनमेप्रत्येकपदार्थथोड़ाथोड़ालेकरएकपतेपररखेउसपरलालगुलाबबिखेरेबादमेचौराहेपररखदें|
3. घीनजरागयाहोतोदहीबिलौतेसमयमथनीकेपासमेअपनेपैरकीजूतीउलटीरखनेसेघीकीनजरउतरजायेगी|
4. यदिकिसीभीदुकानपरनजरलगगयीहोतोरविकेदिनदुकानपरसातमिर्चवबीचमेनीबूपिरोकरप्रवेशद्वारपरलगानेसेनजरदूरहोजातीहै|
5. कमलकेबीजोकेचावलकेसाथबकरीकेदूधमेपीसकरशुद्धदेशीघीमेहलुआयाखीरबनाकरखायेइसकासेवनकरनेसेकईदिनोंतकभूखकाअनुभवनहीं

Garbh Dharan Ke Totke

Image
पीपल, सोंठ, कालीमिर्च और नागकेसर इनको समभाग महीन पीस छान कर 4 माश लें और 6 माशे घी मे मिलाकर 7 दिन तक प्रात:खाने से बांझ भी गर्भवती हो जाती है|
नागकेसर और सुपारी का चूर्ण सेवन करने से भी गर्भ रह जाता है|
गर्भ रहने पर, यदि गर्भवती ढाक का एक पता ढूध मे पीसकर पीती है तो निश्चय ही वीर्यवान पुत्र होता है|       नोटः ढाक के बीजों की राख और हीग इन दोनों को ढूध मे मिलाकर पीने से गर्भ नहीँ रहता|

पुत्रजीव वृक्ष की जड़ ढूध मे पीसकर पीने से दीघ्रयु पुत्र होता है|
पुत्रजीव वृक्ष की जड़ और देवदारु इन दोनों को ढूध मे पीसकर पीने से अवश्य पुत्र होता है|
बिजौरे नींबू के बीज, बछड़े वाली गाय के ढूध मे पीसकर पीने से निश्चय ही पुत्र होता है|
4 माशे नागकेसर, बछड़े वाली गाय के ढूध मे पीसकर पीने से निश्चय ही पुत्र होता है|
काले तिल, सोंठ, पीपर, कालीमिर्च, भारगी और पुराना गुड़ इन सबको बराबर- बराबर, चार - चार माशे लेकर, पाव भर जल मे ओउटए और सुबह - शाम इसका सेवन करें|

Dhan Prapti Ke Totke

Image
1. हल्दी की पांच गांठ लेकर उसे लश्मी पूजन करके 108 मंत्रों से अभिमंत्रित करके भवन मे 'शुक्र ' के स्थान पर भूमि मे दबा दें|

2. 108 दिन बरगद की पूजा करके उसे जल से सिंचित करे| 108 वे दिन उसे प्रणाम करके उसकी एक जड़ का छोटा टुकड़ा लाये और ताबीज़ मे भरकर कमर मे बाधे तो लश्मी प्रप्त होती है और दुबलापन दूर होता है|

3. असगन्ध की जड़ को भी उपयुक्त तरीके से प्रयुक्त किया जा सकता है|

4. धातु और लश्मी की दुर्बलता हेतु 'आक' के जड़ का ताबीज़ बनाकर पहनें| आक की पूजा रविवार से प्रारंभ करके शुक्र तक करें और जल दें| शुक्र के प्रांत:काल उतर दिशा की जड़ का एक टुकड़ा लाकर ताबीज़ बनायें|

5. श्वेतार्क की जड़ उपयुक्त विधि से लेकर भवन मे शुक्र के स्थान पर दबाने से लश्मी की वृद्धि  होती है और भूत-प्रेत भाग जाते हैं| 

6. लश्मी को प्रसन करने के लिये शुक्र के स्थान पर भवन मे 'सिद्ध कुबेर कृत लश्मी यंत्र' दबाने से निशिचत  अतुल लश्मी प्रप्त होती है|

7. प्रतिदिन जिमीकन्द एवं तेज पते का 21 दिन तक लश्मी मंत्र के साथ हवन करने से घर मे लश्मी बनी रहती है|

8. एकाशी नारियल प्रप्त कर उसका पूजन करके घर मे प्…

Bail Ke Sig Ka Vashikaran

Image
रविवार के दिन कोई बैल मरे, तो उसे ले जाने वाले मोची के घर से उसका सींग ले आये| उस सींग का मांस आदि थोड़ा निकाल दे| उसमे उस स्त्री के बायें पैर का मोजा डालें, जिसे वश मे करना हो और चौराहे की मिटटी लाकर उसे अपने स्नान के प्रथम जल से गूध ले, इसमे अपना एक बाल तोड़ कर ( सींग मे ) डालें ओर मिटटी से उसका मुह बन्द करके निर्जन कमरे मे 501 रूद्र मंत्र का जाप करके उसको धूप दीप दिखाये| फिर उसे उस नारी के घर के सामने या घर की चार दीवारी मे कही गाड़ दे, तो वह नारी सब कुछ भूलकर आपकी प्रेयसी बन जायेगी और आप जो चाहेगें, वही करेगीं|

Vashikaran Ke Aghor Panthi Totke

1. स्त्री जिन दिनों रजस्वला हो उन दिनों पांच अखण्डित लौंग लेकर उन्हें अपनी भग मे सारी रात भिगोवें| ततयपशचत उन लोंगो को पीसकर जिस पुरुष के मस्तक पर डाले, वह उसके वश मे रहता है|
2. पूर्वाफाल्गुनी नक्षत्र मे अनार तोड़ लाए| उस अनार की धुप देकर अपनी दायी भुजा मे बाधकर जाएं तो प्रत्येक वशीभूत हो जाएगा|
3. साबुत काले उड़द मे मेहंदी मिलाकर जिस दिशा मे वर या वधू का घर हो उस तरफ फेंक देने से वर वधू मे प्यार बढ़ता है| क्लेश समाप्त हो जाता है| यह क्रिया जहा पर विवाह हुआ है| वहा से ही करनी है|
4. परिवार मे सुख शांति और समृद्धि के लिए प्रतिदिन प्रथम रोटी के चार बराबर भाग करे, एक गऊ को, दूसरा काले कुते को, तीसरा कौए को और चौथा चौराहे पर रख दें|
5. भोज पत्र के ऊपर लाल चदन से शत्रु का नाम लिखकर शहद मे डूबा देने से शत्रु वशीभूत हो जाता है|
6. चिता की भस्म, कूठ, वच, तगर और कुमकुम इन सबको एक साथ पीसकर स्त्री के मस्तक पर और पुरुष के पांच के नीचे डालने से वह वशीभूत हो जाता है|
7. हल्दी, गौमूत्र, घी, सरसो और पान के रस को एकत्र पीसकर शरीर पर लगाने से सित्रयां वशीभूत होती है|
8. विजोरे की जड़ और धतूरे के बीज को प्याज के…