Supari Vashikaran Totka

सुपारी वशीकरण आदमी और औरत के लिए |

पीर मैं नाथ |
प्रीत मैं माथ |
जिसे खिलाऊ वह मेरे साथ ||
यह सुपारी मेरे दिल का |
यह सुपारी मेरे मन का |
यह सुपारी सुन्दर वन का |
जो खाये सो भटके वन मे |
ढूढ़े मुझको तड़पे वन मे |
बिना डोर बंध कर चलि आवे |
कामाख्या देवि शक्ती दिखावे ||
शब्द सांचा पिण्ड काचा |
फुरो मंत्र ईश्वरो वाचा ||

इस की सिद्धि के लिऐ कोई ऐसा जलाशय, टब या बाथटैंक चाहिये, जिसमे शारीर गर्दन तक डूब जाये | एक छोटी स्वस्थ पकी हुई सुपारी लेकर उसे घी मे तर कर ले उसके बाहरी आवरण के छिलके को देख ले कि कही उसमे छिलका न लगा हो | इसे घी के साथ पानी से निगल जाये | ( साबूत पूरा ) और बिना वस्त्र के पानी के अन्दर गर्दन डुबाकर 1188 बार इस मंत्र का जाप करें |

इतने समय तक पानी बर्दास्त नहीं हो तो प्रथम 1080 मत्र बहार ही सुखासन मे बैठकर जप ले, फिर 108 मत्र पानी मे जपे |

प्रत: काल शौच के समय ध्यान रखे | यह सुपारी निकलेगी | इसे उठाकर अपने स्नान के पानी से धो ले और सुखाकर रख ले | इस सुपारी का एक छोटा टुकड़ा जिसे खिला देंगे  वह वश मे हो जायेगा और सदा आपके वश मे रहेगा |

2 comments:

  1. Namste Molvi ji mai supari vashikaran ke bare mai jana chahta tha ki ye sab vidi kitne dino mai puri hoti hai

    ReplyDelete
  2. Thanks For The Sharing And Keep It Up,http://fresoftware.com/

    ReplyDelete